आइए जानते हैंBOCW अधिनियम, 1996 और नियमों के बारे में

Priyanka Mishra

परिचय:

भारत में श्रमिकों की सुरक्षा और हित के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण कदम है - "बीओसीडब्ल्यू एक्ट, 1996"। इस एक्ट का मुख्य उद्देश्य निर्माण क्षेत्र में काम करने वाले श्रमिकों के हितों की सुरक्षा और सुरक्षितता सुनिश्चित करना है।

उद्देश्य:

बीओसीडब्ल्यू एक्ट के उद्देश्य में शामिल हैं: – निर्माण क्षेत्र में काम कर रहे श्रमिकों के हितों की सुरक्षा और सुरक्षितता का सुनिश्चित करना। – श्रमिकों को उचित मानदंडों के साथ काम करने का अधिकार प्रदान करना। – श्रमिकों को उचित भुगतान और अन्य लाभों का हक प्रदान करना।

मुख्य प्रावधान:

बीबीओसीडब्ल्यू एक्ट में कुछ मुख्य प्रावधान हैं जो श्रमिकों के हित में हैं:

1. भुगतान और लाभ:

– श्रमिकों को न्यूनतम वार्षिक भुगतान की गारंटी प्रदान की गई है। – श्रमिकों को आदेशी अवस्था में बीमा कवर प्रदान की जाती है।

2. सुरक्षा:

– काम स्थल पर सुरक्षा उपायों की पुनरावृत्ति का अनिवार्य होना चाहिए। – प्रतिसप्ताह को काम स्थल पर सुरक्षा समीक्षा होनी चाहिए।

3. विभागीय अधिकारियों की नियुक्ति:

इस एक्ट के अनुसार, विभागीय अधिकारी नियुक्त किए जाएंगे जो श्रमिकों के हित में निगरानी रखेंगे।

नियम:

इस एक्ट के अधीन, कई नियम भी बनाए गए हैं जो इसके प्रावधानों की व्याख्या और अनुप्रयोग में मदद करते हैं। इनमें श्रमिकों के लाभों की खास रक्षा और सुनिश्चिति को सुनिश्चित करने के लिए कई निर्देश शामिल हैं।

निष्कर्ष:

बीओसीडब्ल्यू एक्ट, 1996 एक महत्वपूर्ण कदम है जो श्रमिकों के हित में सुधार करने की दिशा में बड़ा परिवर्तन कर रहा है। इसका सख्ती से पालन करना और इसके उपायों को प्रोत्साहित करना हम सभी की जिम्मेदारी है ताकि हमारे श्रमिक सुरक्षित, स्वस्थ, और उत्साही रहें।

Next: How to Create Construction Floor Plan