आइये जानते हैं मकानों के प्रकार के बारे में

आइये जानते हैं मकानों के प्रकार के बारे में

स्वतंत्र घर (Independent House)

स्वतंत्र घर (Independent House)

स्वतंत्र घर वह होता है जो किसी और संपत्ति के साथ संबंधित नहीं होता है और एक परिवार के लिए पूरी तरह से अलग होता है। इसमें आमतौर पर अपनी स्वयं की बगीचा और पार्किंग स्थल भी होता है।

आवास समूह (Housing Society):

आवास समूह (Housing Society):

यह एक समूह होता है जिसमें एक साथ कई आवास होते हैं, और इनमें सामान्य सुविधाएं और सुरक्षा साझा की जाती है। हाउसिंग सोसायटी आमतौर पर बड़े शहरों और नगरों में पाई जाती हैं।

बंगला (Bungalow):

बंगला (Bungalow):

बंगला एक-या दो-मंजिले होते हैं और इनमें विशाल बगीचा और अधिक सांस्कृतिक शैली के विशेषताएं होती हैं। ये आमतौर पर उच्च वर्ग के लोगों के लिए बनाए जाते हैं।

अपार्टमेंट्स (Apartments):

अपार्टमेंट्स (Apartments):

ये बहुलक्षेत्रीय इमारतों के अंश होते हैं जो अनेक फ्लोर्स पर बट जाते हैं, और इसमें विभिन्न आवास होते हैं जो साझा सुविधाओं का उपयोग करते हैं।

कंडोमिनियम (Condominium):

कंडोमिनियम (Condominium):

यह एक प्रकार की संपत्ति होती है जो व्यक्तियों को स्वतंत्र स्वामित्व के साथ साझा करने का सुयोग प्रदान करती है। इसमें आपके स्वामित्व में केवल अपने आवास का हिस्सा होता है, जबकि आप बाकी सुविधाओं का संचालन में भाग लेते हैं।

रोव हाउस (Row House):

रोव हाउस (Row House):

यह घरेलू आवासों का समूह होता है जो एक साथ कई पंक्तियों में बने होते हैं, और इनमें सामान्य दीवारें होती हैं जो आपको आपके पड़ोसी के साथ साझा करना पड़ता है।

लोग बाड़ (Log Cabin):

लोग बाड़ (Log Cabin):

ये घर आमतौर पर लकड़ी के लॉगों से बने होते हैं और इन्हें आमतौर पर प्राकृतिक सुरक्षा और गर्मी की सुरक्षा के लिए ठंडे क्षेत्रों में बनाया जाता है। ये आधुनिक और रूस्तीक दोनों हो सकते हैं।

कंक्रीट हाउस (Concrete House)

कंक्रीट हाउस (Concrete House)

कंक्रीट हाउसेस में सामान्यत: इस्तेमाल होने वाले सामग्री के कारण वे मजबूत और स्थिर होते हैं। ये आमतौर पर बहुतलीय और मल्टी-फ्लोर होते हैं और विभिन्न डिज़ाइनों में उपलब्ध हो सकते हैं।

वास्तु-दोष मुक्त घर (Vastu-compliant House):

वास्तु-दोष मुक्त घर (Vastu-compliant House):

कुछ लोग वास्तु शास्त्र के अनुसार बनाए जाने वाले घरों को पसंद करते हैं क्योंकि वे मानते हैं कि इससे घर के वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है और लोगों को शांति और सुख-शांति की प्राप्ति होती है।

Next: वास्तु के अनुसार घर के मुख्य द्वार की दिशा

Next: वास्तु के अनुसार घर के मुख्य द्वार की दिशा